Home / Hindi Web / Hindi Topics / 1973 का रेगुलेटिंग एक्ट

1973 का रेगुलेटिंग एक्ट

Filed under: Politics

इस अधिनियम का अत्यधिक संवैधानिक महत्व था
अ) भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के कार्यों को नियमित और नियंत्रित करने की दिशा में ब्रिटिश सरकार द्वारा उठाया गया यह पहला कदम था।
ब) इसके द्वारा पहली बार कंपनी के प्रशासनिक और राजनीतिक कार्यों को मान्यता मिली एवं इसके द्वारा भारत में केंद्रीय प्रशासन की नींव रखी गई। 
इस अधिनियम की प्रमुख विशेषताएं इस प्रकार थी:
# इस अधिनियम द्वारा बंगाल के गवर्नर को 'बंगाल का गवर्नर जनरल' पद नाम दिया गया एवं उसकी सहायता के लिए एक चार सदस्य कार्यकारी परिषद का गठन किया गया उल्लेखनीय है कि ऐसे पहले गवर्नर लार्ड वारेन हेस्टिंग्स थे।
# इसके द्वारा मद्रास एवं मुंबई के गवर्नर बंगाल के गवर्नर जनरल के अधीन हो गए जबकि पहले सभी प्रेसिडेंसीयों के गवर्नर एक दूसरे से अलग थे।
# अधिनियम के अंतर्गत कोलकाता में 1774 में एक उच्चतम न्यायालय की स्थापना की गई जिसमें मुख्य न्यायाधीश और तीन अन्य न्यायाधीश थे। 
# इसके तहत कंपनी के कर्मचारियों को निजी व्यापार करने और भारतीय लोगों से उपहार व रिश्वत लेना प्रतिबंधित कर दिया गया। 
# किस अधिनियम के द्वारा, ब्रिटिश सरकार का कोर्ट ऑफ डायरेक्टर के माध्यम से कंपनी पर नियंत्रण सशक्त हो गया । इसने भारत में इसके राजस्व, नागरिक और सैन्य मामलों की जानकारी ब्रिटिश सरकार को देना आवश्यक कर दिया गया।

Tags