You are here: Home / Hindi Web /Topics / सिकंदर का आक्रमण

सिकंदर का आक्रमण

Filed under: History Ancient History on 2021-06-30 12:55:03
ईसा पूर्व 326 में सिकंदर सिंधु नदी को पार करके तक्षशिला की ओर बढ़ा व भारत पर आक्रमण किया। तब उसने झेलम व चिनाब नदियों के मध्‍य अवस्थ्ति राज्‍य के राजा पौरस को चुनौती दी। यद्यपि भारतीयों ने हाथियों, जिन्‍हें मेसीडोनिया वासियों ने पहले कभी नहीं देखा था, को साथ लेकर युद्ध किया, परन्‍तु भयंकर युद्ध के बाद भारतीय हार गए। सिकंदर ने पौरस को गिरफ्तार कर लिया, तथा जैसे उसने अन्‍य स्‍थानीय राजाओं को परास्‍त किया था, की भांति उसे अपने क्षेत्र पर राज्‍य करने की अनुमति दे दी।

दक्षिण में हैडासयस व सिंधु नदियों की ओर अपनी यात्रा के दौरान, सिकंदर ने दार्शनिकों, ब्राह्मणों, जो कि अपनी बुद्धिमानी के लिए प्रसिद्ध थे, की तलाश की और उनसे दार्शनिक मुद्दों पर बहस की। वह अपनी बुद्धिमतापूर्ण चतुराई व निर्भय विजेता के रूप में सदियों तक भारत में किवदंती बना रहा।

उग्र भारतीय लड़ाके कबीलों में से एक मालियों के गांव में सिकन्‍दर की सेना एकत्रित हुई। इस हमले में सिकन्‍दर कई बार जख्‍मी हुआ। जब एक तीर उसके सीने के कवच को पार करते हुए उसकी पसलियों में जा घुसा, तब वह बहुत गंभीर रूप से जख्‍मी हुआ। मेसेडोनियन अधिकारियों ने उसे बड़ी मुश्किल से बचाकर गांव से निकाला।

सिकन्‍दर व उसकी सेना जुलाई 325 ईसा पूर्व में सिंधु नदी के मुहाने पर पहुंची, तथा घर की ओर जाने के लिए पश्चिम की ओर मुड़ी।
About Author:
M
Madan     View Profile
Never judge too early.
More History, Ancient History Topics

पांडियन साम्राज्य भारतीय इतिहास | Pandyan Kingdom in Hindi


प्लासी का युद्ध का परिणाम


मानव की उत्पत्ति व विकास


मुहम्मद गोरी का भारत पर आक्रमण


आर्य कौन थे और आर्यों की जीवन शैली


वैदिक सभ्यता । Vedic Civilization in hindi


प्रारंभिक वैदिक काल या ऋग्वैदिक काल (1500 ईसा पूर्व - 1000 ईसा पूर्व)


जैन धर्म की उत्पत्ति और जैन धर्म के संस्थापक


हर्षवर्धन का उदय , इतिहास और अंत Harshvardhan Dynasty in Hindi


उत्तर वैदिक काल या चित्रित ग्रे वेयर चरण (1000 ईसा पूर्व - 600 ईसा पूर्व)


बक्सर का युद्ध के परिणाम और महत्व


बक्सर युद्ध के कारण


रामानंद के बारे में (14-15 वी सदी) और उनके शिष्य


निम्न पुरापाषाण काल | प्राचीन इतिहास


जैन धर्म के उदय के कारण | जैन धर्म में विभाजन