Home / Hindi Web / Hindi Topics / उत्तर वैदिक काल या चित्रित ग्रे वेयर चरण (1000 ईसा पूर्व - 600 ईसा पूर्व)

उत्तर वैदिक काल या चित्रित ग्रे वेयर चरण (1000 ईसा पूर्व - 600 ईसा पूर्व)


इस समय के दौरान, आर्य पूर्व की ओर चले गए और पश्चिमी और पूर्वी यूपी (कोसल) और बिहार पर कब्जा कर लिया।

 राजनीतिक संरचना: 

# छोटे राज्यों को मिलाकर महाजनपद जैसे राज्य बनाए गए। 

# राजा की शक्ति में वृद्धि हुई और उसने अपनी स्थिति को बढ़ाने के लिए विभिन्न बलिदान किए।

# बलिदान थे राजसूय (अभिषेक समारोह), वाजपेय (रथ दौड़) और अश्वमेध (घोड़े की बलि)। 

# सभाओं और समितियों का महत्व कम हो गया। 

सामाजिक संरचना: 

# सामाजिक भेद की वर्ण व्यवस्था अधिक विशिष्ट हो गई। 

# यह व्यवसाय के आधार पर कम और वंशानुगत अधिक हो गया।

# घटती सामाजिक रैंकिंग में समाज के चार विभाजन थे: ब्राह्मण (पुजारी), क्षत्रिय (शासक), वैश्य (किसान, व्यापारी और कारीगर), और शूद्र (उच्च तीन वर्गों के सेवक)। 

# महिलाओं को सभाओं और समितियों जैसी सार्वजनिक सभाओं में भाग लेने की अनुमति नहीं थी। 

# समाज में उनका स्थान कम हो गया।

# बाल विवाह आम हो गया।

# व्यवसाय के आधार पर उपजातियों का भी उदय हुआ। गोत्रों को संस्थागत रूप दिया गया। 

आर्थिक संरचना: 

# कृषि मुख्य व्यवसाय था। 

# धातु का काम, मिट्टी के बर्तनों और बढ़ईगीरी के काम जैसे औद्योगिक काम भी थे। 

# बाबुल और सुमेरिया जैसे दूर-दराज के क्षेत्रों के साथ विदेशी व्यापार था।

# धर्म: प्रजापति (निर्माता) और विष्णु (संरक्षक) महत्वपूर्ण देवता बन गए।

# इंद्र और अग्नि ने अपना महत्व खो दिया। 

# प्रार्थना का महत्व कम हो गया और अनुष्ठान और बलिदान अधिक विस्तृत हो गए। 

# पुरोहित वर्ग बहुत शक्तिशाली हो गया और उन्होंने संस्कारों और कर्मकांडों के नियमों को निर्धारित किया। 

# इसी रूढ़िवादिता के कारण इस काल के अंत में बौद्ध और जैन धर्म का उदय हुआ।

Tags