Home / Hindi Web / Hindi Topics / उपनिषद क्या है और कितने प्रकार के हैं

उपनिषद क्या है और कितने प्रकार के हैं


विद्वानों ने उपनिषद(upanishad) शब्द की व्युत्पत्ति  उप+ नि + षद के रूप में मानी है। इसका अर्थ है कि जो ज्ञान व्यवधान रहित होकर निकट आये , जो ज्ञान विशिष्ट तथा संपूर्ण हो तथा जो ज्ञान सच्चा हो वह निश्चित ही उपनिषद(upanishad) कहलाता है। अर्थात् वह ज्ञान जो गुरु के समीप बैठकर प्राप्त किया गया हो। उपनिषदों की भाषा संस्कृत है तथा ये गद्य – पद्य दोनों में हैं। इनकों वेदांत भी कहा गया है, क्योंकि ये वेदों के अंतिम भाग हैं। 
उपनिषदों में आत्मा तथा अनात्मा के तत्वों का निरुपण किया गया है, जो वेद के मौलिक रहस्यों का प्रतिपादन करता है।  इनमें ज्ञान से संबंधित समस्याओं पर विचार किया गया है। उपनिषद(upanishad) भारत के अनेक दार्शनिक , जिन्हें ऋषि कहा जाता है, के अनेक वर्षों के गंभीर चिंतन – मनन का परिणाम हैं।

उपनिषदों(upanishad) से संबंधित महत्वपूर्ण बातें-

# उपनिषद(upanishad) हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण श्रुति ग्रंथ हैं।
# इनमें परमेश्वर, परमात्मा – ब्रह्मा तथा आत्मा के स्वभाव और संबंध का दार्शनिक तथा ज्ञानपूर्वक वर्णन काया गया है।
# ब्रह्मा, जीव तथा जगत् का ज्ञान प्राप्त करना ही उपनिषदों (upanishad)की मूल शिक्षा है।
# उपनिषद(upanishad) समस्त भारतीय दर्शनों के मूल स्रोत हैं, चाहे वो वेदांत हों या फिर सांख्य या जैन – बौद्ध धर्म ग्रंथ।
# उपनिषदों(Upanishads) का दारा शिकोह ने फारसी में अनुवाद करवाया था।
# ईश्वर एवं आत्मा के संबंधों की बात उपनिषद में की गई है। परमज्ञान, पराविद्या, सर्वोच्च ज्ञान (इस लोक से बाहर की बात ) भी की गई है।
# उपनिषद(upanishad) भारतीय दर्शन का मूल स्रोत हैं।
उपनिषद(upanishad) की रचना 1000ई. पू. – 300 ई.पू. के लगभग हुई।
# शंकराचार्य ने जिन 10 उपनिषदों पर अपना भाष्य लिखा है , उनको प्रमाणित माना गया है।
# अकबर के समय अल्लोपनिषद की रचना की गई।

वेदांत का अर्थ है-
वेदों का अंत या वेदों की परिपूर्ति।

वेदों के चार भाग हैं-

1. संहिता–
संहिता में वैदिक देवी – देवताओं की स्तुति के मंत्र हैं।

2. ब्राह्मण–
ब्राह्मण ग्रंथों में वैदिक कर्मकांड और यज्ञों का वर्णन मिलता है।

3. आरण्यक–
इनमें कर्मकांड तथा यज्ञों की कथाएँ व दार्शनिक व्याख्या हैं।

4. उपनिषद-(upanishad)
उपनिषद में वास्तविक वैदिक दर्शन का सार है।

मुख्य उपनिषद -(upanishad)

वैसे तो उपनिषद संख्या में 108 हैं लेकिन मुख्य उपनिषद (upanishad) 12 या 13 ही हैं। प्रत्येक वेद के अपने-2 उपनिषद (upanishad) हैं।

श्वेताश्वर उपनिषद (upanishad) –
 रुद्र से संबंधित बातें। इसमें रुद्र के परवर्ती नाम शिव का भी उल्लेख है।

छांदोग्य उपनिषद (upanishad)-
कृष्ण, विष्णु से संबंधित । आरुणि उद्दालक तथा श्वेतकेतु के मध्य संवाद छांदोग्य उपनिषद में हुआ।

मुण्डक उपनिषद (upanishad)-
 इस उपनिषद (upanishad) में सत्यमेव जयते, (यज्ञ की तुलना फूटी हुई नाव से की गई है।)का वर्णन है।

कठोपनिषद-
यम – नचिकेता संवाद।

वृहदारण्यक उपनिषद (upanishad)-
यह उपनिषद (upanishad) अन्य उपनिषदों में सबसे अधिक विशाल है, इसके प्रधान प्रवक्ता महर्षि याज्ञवलक्य हैं।

इषोपनिषद-
निष्काम कर्म सिद्धांत का प्रथम प्रतिपादन ।

महर्षि याज्ञवलक्य-
महर्षि याज्ञवलक्य ने विदेह के राजा जनक के दरबार में हुए शास्तार्थ में अनेक ब्रह्मणवादी विद्वानों को पराजित किया था। इनकी दो पत्नियां मैत्रेयी और कात्यायनी थी।

Search
Tags